मलेरिया क्या है? जाने इसके लक्षण , इलाज और बचने का तरीका - आरोग्य भारत

आरोग्य भारत, आपका भरोशेमंद हेल्थ वेबसाइट

Translate

मंगलवार, 25 अगस्त 2020

मलेरिया क्या है? जाने इसके लक्षण , इलाज और बचने का तरीका

 मलेरिया क्या है? जाने इसके लक्षण , इलाज और बचने का तरीका malaria in hindi



    मलेरिया क्या है??? (Malaria meaning in Hindi)

    • विश्व स्वास्थ संगठन (WHO) की माने तो मलेरिया मच्छरों से होने वाली खतरनाक जानलेवा बिमारी है जो Parasites से  संक्रमित मादा मच्छर अनोफेलेस (Female Anopheles Mosquitoes) के द्वारा  इंसानों को  काटने से होती है ।
    • मलेरिया का संक्रमण आम तौर पे बरसात के मौसम यानि Rainy Season में ज्यादा होती है । 
    • मलेरिया आम तौर पे प्लासमोडियम परजीवी  (Plasmodium Parasites) से होती है ।  यह परजीवी इंसानों में संक्रमित मादा मच्छर Anopheles के काटने से फैलती है  जिसे medical term में Malaria Vector कहते है । 
    • WHO के आकडे के अनुसार साल 2018 में पूरी दुनिया में 228 Million यानि 22.8 करोड़ लोग संक्रमित हुए थे जिन में करीब 405000 लोगो की मृत्यु हुई ।  भारत की बात करे तो हर साल करीब 20 लाख मामले मलेरिया के सामने आते है जिनमे से 1000 लोगो की मृत्यु दर्ज की जाती ।
    • भारत के राज्य जैसे ओडिशा , छत्तीसगढ़ , पश्चिमी बंगाल , झारखण्ड और कर्नाटक में हर साल मलेरिया के ज्यादा मामले सामने आते है ।
    • हर साल 25 April को World Malaria Day मनाई जाती है ताकि लोगो को जागरुक्त की जा सके ।

    मलेरिया किसे होता है? (People risk of getting Malaria in Hindi)

    • कम रोज प्रतिरोधक शक्ति (Immunity) वाले लोग जैसे की बच्चे, बुजुर्ग और गर्भवती महिलाये ,
    • गन्दगी भरी जगह में रहने वाले लोग 
    • बिना मलेरिया वाले क्षेत्रो से आने वाले यात्रियों को बीमार होने के ज्यादा संभावना होती है
    • खदान , जंगल ,Construction इत्यादि में काम करने वाले लोगो में ज्यादा खतरा होता है । 

    मलेरिया कैसे होता है/मलेरिया के कारण? (Causes of Malaria in Hindi)

    इंसानों में मलेरिया  Plasmodium falciparum, P. malariae, P. ovale, P. vivax और P. knowlesi जो की Plasmodium परजीवी के प्रकार है , से होती है । यह ज्यादातर नशों ,खून और लीवर को असर करता है ।
    जब  किसी इंसान को संक्रमित मच्छर काटता है तो उस इंसान के नासो में Sporozoite नामक परजीवी  की entry होती है जो मच्छर के डंक से आती है । 

    • Sporozoite नसों से होते हुए Liver तक पहुचती है जहा वो Hepatocyte जो की Liver Cell है , को संक्रमित करके Schizonts में परिवर्तित होती है जो बाद में फट कर Merozoites को release करता है । 
    • Merozoites फिर Red Blood Cell को संक्रमित करके एक Asexual Multiplication की series सुरुवात करता है जिससे  और ज्यादा संक्रमित Merozoites बनती है । 
    • Merozoites फिर खुदको Immature Gametocytes में विकसित करती है जो Male and Female Gametes की precursors है । 
    • फिर जब एक मादा मच्छर उस संक्रमित इंसान को काटती है तब वो खून के साथ साथ Gametocytes को भी अपने अन्दर ले लेती है । 
    • Gametocytes  मादा मच्छर के पेट में विकसित होकर Ookinetes में परिवर्तित होती है जो की एक fertilized motile zygote है ।
    • Ookinetes खुद को नया Sporozoites में विकसित करती है जो मच्छर की Salivary gland से होते हुए वापस किसी इंसान के नशों में चली जाती है और फिर से पूरी LifeCycle continue होती है । 

    मलेरिया के लक्षण क्या है? (Symptoms of Malaria in Hindi)

    File:Symptoms of Malaria.png - Wikimedia Commons

    मलेरिया के सुरुवाती  लक्षण संक्रमित मच्छर के काटने के 8 से 25 दिन में दिखाई  देती  है । अक्सर लक्षण दिखने में ज्यादा समय लग जाती है अगर कोई  Antimalarial Drug की इस्तेमाल रोकथाम  के लिए  कर रहा है । 

    मलेरिया के सुरुवाती लक्षण Flu की तरह है जैसे की :-

    • बुखार आना (Fever)
    • उलटी होना  (Vomiting)
    • सिरदर्द होना  (Headache)
    • सांस फूलना  (Rapid Breathing)
    • सर्दी जुखाम होना  (Common Cold)
    • जोड़ो में दर्द होना  (Joint Pain)
    • चक्कर आना (Vertigo)
    • हमेशा थकावट जैसा महसूस करना (Tiredness)
    • दस्त होना (Constipation)

    मलेरिया के कारण और भी समस्याएं हो सकती है जैसे की :-

    • Sepsis 
    • Jaundice (शरीर का पीलापन )
    • Hemolytic Anemia
    • Retinal Damage
    • Convulsion

    मलेरिया का परिक्षण/निदान कैसे होता है ? (Diagnosis of Malaria in Hindi)

    • रैपिड डायग्नोस्टिक टेस्ट (RDT
    • ब्लड टेस्ट (Blood Test

    मलेरिया का इलाज क्या है? (Treatment of Malaria in Hindi)

    मलेरिया का इलाज Anti-Malarial Drugs (Prescription Drug) से Parasites को ख़तम करके की जाती है ।  इसके इलावा लक्षण देखकर उसको रोकने के लिए  अलग अलग दवाईया दी जाती है जैसे की बुखार के लिए Paracetamol इत्यादी ।  2015 में RTS,S नामक वैक्सीन की अनुमति मलेरिया के इलाज के लिए मिली थी जो की  ४ इंजेक्शन में ठीक होनेका दावा करती थी लेकिन उसका प्रभावकारिता बहुत ही कम था इसीलिए WHO उसको छोटे बच्चो को देने की सिफारिश नहीं करता। फिलहाल अभी मार्केट में मलेरिया का कोई LICENSED INJECTION नहीं है । 

    मलेरिया की दावा  (Medicine for Malaria)

    • Artemisinin-based combination therapies
    • Chlroquine Phosphate
    • Combination of Atovaquone and Proguanil
    • Quinine Sulphate with Doxycycline
    • Mefloquine
    • Primaquine phosphate
    (विशेष ध्यान : बिना डॉक्टर या फार्मासिस्ट के सल्लाह के कोई भी दवाई न ले) 
    (Note: Never do self medication without proper guidance from Doctor or Pharmacist)

    मलेरिया से बचने का उपाय क्या है? (Prevention of Malaria in Hindi)

    मलेरिया से बचने के लिए मुख्यतः आपको मच्छर से बचके रहना होगा । कुछ सावधानी बरती जा सकती है जैसे की :-
    • अपने आस पास मच्छर को उपजने न दे,
    • घर के आसपास गन्दगी न रखे और जमा हुआ पानी को रोजाना  साफ़ करे,
    • कोशिस करे की घर के अन्दर ही रहे विशेष करके रात को जब मच्छर अधिक सक्रिय होते है,
    • मच्छरदानी का उपयोग करे,
    • ऐसे कपडे का इस्तेमाल करे जो आपके ज्यादातर शरीर को ढक सके,
    • त्वचा  (skin) पे  mosquitoes repellent cream या लोशन का इस्तेमाल करे, 
    • अपने घर में मच्छर होने पे मच्छर मरने वाली स्प्रे का इस्तेमाल करे, 
    • डॉक्टर व फार्मासिस्ट के सल्लाह अनुशार मलेरिया के खतरा बढ़ने पर Antimalarial drugs का सेवन करे,

    मलेरिया होने पे क्या करे ? 

    यदि आपको ऊपर दिए गए लक्षण दिखाई दे रहे है या आपको मलेरिया होने की आशंका है तो तुरंत डॉक्टर के पास जाके जांच कराये ।

    मलेरिया में क्या खाए? (Foods to be taken during Malaria in Hindi)

    • मलेरिया होने पे संतुलित आहार पर विशेष करके ध्यान देना चाहिए जैसे की  खाने में हरि और ताज़ी सब्जिया , दाल , दूध , दही, अंडा इत्याति का इस्तेमाल ज्यादा करे ,
    • गरम पानी ज्यादा से ज्यादा पीकर खुद को हाइड्रेट रखे 
    • Coconut Juice, Orange Juice, Grapefruit Juice, पपीते का जूस ,अनार का जूस इत्यादि का सेवन करे
    • Antioxidant rich जैसे की Broccoli, गोभी , गाजर इत्यादि का खूब सेवन करे ।  यह शरीर में Immune System को मजबूत बनाने  में मदत करता है 
    • अपने खाने में omega-3 जैसे की  अलसी (Flax Seed), अखरोट (Walnuts), चिया वीज (Chia Seeds) इत्यादि का इस्तेमाल करे ।  यह आपके शरीर में सुजन (Inflammation) को कम करने में मद्दत करता है । 

    मलेरिया में क्या परहेज करे? (Food to avoid during Malaria in Hindi)

    • तला हुआ खाना न खाए ,
    • केक , मिठाई ,बिस्कुट ,इत्यादि सेवन न करे ,
    • बाजार में मिलने वाली readymade खाना  न खाए ,
    • शराब व अन्य पेयजल का इस्तेमाल न करे  क्यों की यह मेटाबोलिज्म को असर करता है ,
    • चाय व कॉफ़ी का इस्तेमाल कम करे 
    • डॉक्टर की मना की हुई चीजे 

    मलेरिया के घरेलु इलाज क्या है ? (Home treatment for Malaria)

    मलेरिया एक खतरनाक जानलेवा बिमारी है जो अगर वक़्त पे सही इलाज न मिले तो जान जाने का खतरा भी होता है । इसीलिए बिना डॉक्टर (चाहे वो एलॉपथी, आयुर्वेदिक या कोई और विधि) के सल्लाह के कोई भी घरेलु उपचार या नुस्खे का इस्तेमाल न करे। ज्यादातर  घरेलु नुस्खे इलाज में  एक Supporting role play करते है  लेकिन १००% ठीक करेंगे इसकी आपको जानकारी नहीं होती । इसीलिए बिना डॉक्टर ले सल्लाह के कोई भी इलाज न करे ।

    मलेरिया के जुड़े कुछ सवाल (FAQs of Malaria)

    1) मलेरिया के दावा Cinchona bark के क्यों बनायीं जाती है ?
    • Cinchona bark में दो महत्वपूर्ण Alkaloids Quinine और Quinidine होती है जो मलेरिया के इलाज में बेहतर drug मानी जाती है ।
    2)   मलेरिया ठीक होने में कितनी वैक्सीन लगती है ?
    • यह पोस्ट बनाते वक़्त  मलेरिया का लाइसेंस्ड वैक्सीन अभी तक बाजार में उपलब्ध नहीं है ।
    3) मलेरिया जाचकीट कितना सही रिजल्ट देता है ?
    • दुनिया में कोई भी टेस्ट १००% रिजल्ट नहीं देता क्यों की बहुत सारे factors को ध्यान में रखना होता है । मलेरिया के RDT टेस्ट 91-96% तक का रिकॉर्ड है।
    4) मलेरिया कैसे होता है इसका पता किसने लगाया ?
    • 20 अगस्त 1897 में सर रोनाल्ड रोस (Sir Ronald Ross) ने भारत के सिकंदराबाद (हैदराबाद) में इसका खोज किया      
    5) क्या सभी मच्छर के काटने से मलेरिया होता है ?
    • नहीं ,अभी तक के रिसर्च के अनुशार  सिर्फ अनोफेलेस प्रजाति के केवल महिला समूह से मच्छर के काटने से मलेरिया होता है । पर यह पता लगाना की कौन सा मच्छर अनोफेलेस है यह आम जनता के लिए सम्भव नहीं इसीलिए सभी मच्छरों से बचके रहे। 
    (आपके भी मलेरिया के जुड़े कुछ सवाल है तो निचे कमेंट बॉक्स में शेयर करे । आपका जवाब जल्द से जल्द देनेकी कोशिश करेंगे )
    (अगर आपको यह पोस्ट  अच्छा लगा तो आपने चाहने वालो से साथ शेयर करे ताकि उनके भी इस मलेरिया के बारेमे अच्छी और सही जानकारी मिल सके और साथ ही इस ब्लॉग को फॉलो करे। यहाँ हम हेल्थ , बीमारी और दवाओं के बारेमे हिंदी से जानकारी साझा करते है )  
    <

    कोई टिप्पणी नहीं:

    एक टिप्पणी भेजें

    टिप्पणी: केवल इस ब्लॉग का सदस्य टिप्पणी भेज सकता है.